बंद करे

जिले के बारे में ->

कोंडागांव के अतीत में प्रचलित है, कि इसका प्राचीन नाम कोण्डानार था। बताया जाता है कि मरार लोग गोलेड गाड़ी में जा रहे थे, तब कोण्डागांव के वर्तमान गांधी चौक के पास पुराने नारायणपुर रोड से आते हुए कंद की लताओं में गाड़ी फंस गयी। उन्हे मजबूरी में रात को वहीं विश्राम करना पड़ा। बताया जाता है कि उनके प्रमुख को स्वप्न आया। स्वप्न में देवी ने उन्हें यहीं बसने का निर्देष दिया। उन्होंने उस स्थान की भूमि को अत्यंत उपजाऊ देखकर देवी के निर्देशानुसार यहीं बसना उचित समझा। उस समय इसे कान्दानार (कंद की लता आधार पर) प्रचलित किया गया, जो कालान्तर कोण्डानार बन गया। और पड़े

और...
  • प्रदर्शित करने के लिए कोई पोस्ट नहीं

कोई घटना नहीं है
DM_Profile
कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी श्री दीपक सोनी (आई. ए. एस.)

हेल्पलाइन नंबर

  • नागरिक कॉल सेंटर - 155300
  • चाइल्ड हेल्पलाइन - 1098
  • महिला हेल्पलाइन - 1091
  • अपराध ठहरने वाला - 1090
  • बचाव और राहत आयुक्त - 1070